एक अद्भुत प्रेमी जिसने पत्नी की याद में पहाड़ काट बनाई थी सड़क, कुछ ऐसी थी इस शख्स की लव स्टोरी

0
574

प्यार तो सब करते हैं लेकिन कोई-कोई ही ऐसा होता है जिनका प्यार इतिहास बन जाता है. ऐसा ही प्यार था एक मजदूर का अपनी पत्नी के लिए जिसने एक छेनी-हथौड़े की मदद से पहाड़ को काटकर उसके बीच रास्ता बना दिया. मानो गेहलौर की घाटियों में आज भी दशरथ मांझी के छेनी-हथौड़े की ठक-ठक की आवाज का एहसास होता है.

ये प्यार की अनोखी दास्तां है, एक मामूली से मजदूर दशरथ मांझी की, जिसने अपने हाथों से उस पहाड़ का सीना चीर कर रख दिया जो उसकी मोहब्बत की राह में आ खड़ा हुआ था और जिसकी वजह से उनकी प्रियतमा की मौत हो गई थी. उसी दिन उन्होंने संकल्प लिया कि इस कठोर पहाड़ को काटकर इसके बीच आने-जाने का रास्ता बना देंगे कि फिर भविष्य में किसी प्यार करने वाले को एक-दूसरे से बिछड़ना ना पड़े.

फाइल फोटो

बता दें कि बिहार के गया जिले में 1934 में जन्मे दशरथ मांझी की शादी बचपन में ही हो गई थी लेकिन दशरथ मांझी की मोहब्बत तब परवान चढ़ी जब वो 22 साल की उम्र में यानी 1956 में धनबाद की कोयला खान में काम करने के बाद अपने गांव वापस लौटे और गांव की एक लड़की से उन्हें मोहब्बत हो गई. लेकिन किस्मत देखिए ये वही लड़की थी जिससे दशरथ मांझी की शादी हुई थी. दशरथ मांझी ने ये पहाड़ तोड़ने का फैसला अपनी उसी मोहब्बत यानी फाल्गुनी के लिए किया था. दशरथ मांझी अपनी पत्नी फाल्गुनी के साथ गेहलौर में रहते थे. वे अपनी पत्नी से अथाह प्रेम करते थे. उन दोनों की जिंदगी की गाड़ी गरीबी में भी काफी अच्छे से चल रही थी. दशरथ खेतों में काम करते, मजदूरी करते और फाल्गुनी उनके लिए खाना लेकर रोज जाती थीं.

गेहलौर के लोगों को जरूरी सामान लेने के लिए वजीरपुर जाना पड़ता था जो गेहलौर घाटी को पार कर जाना पड़ता था इसके लिए लोगों को 80 किलोमीटर का लंबा रास्ता तय करना पड़ता था. फाल्गुनी भी किसी काम से गेहलौर घाटी का दुर्गम रास्ता पारकर वजीरपुर जा रही थीं कि अचानक उनका पैर फिसल गया और वे गिर गईं.

दशरथ की आंखों के सामने गहलौर और अस्पताल के बीच खड़े जिद्दी पहाड़ की वजह से साल 1959 में उनकी बीवी फाल्गुनी देवी को वक्त पर इलाज नहीं मिल सका और वो चल बसीं. अपनी प्रिया, अपनी पत्नी को आंखों के सामने मरता देख दशरथ ने तय किया कि अब इस पहाड़ पर रास्ता बनाकर रहेंगे.

पत्नी के चले जाने के गम से टूटे दशरथ मांझी ने अपनी सारी ताकत बटोरी और पहाड़ के सीने पर वार करने का फैसला किया. लेकिन यह काम इतना आसान नहीं था. शुरुआत में उन्हें पागल तक कहा गया. दशरथ मांझी ने बताया था, ‘गांववालों ने शुरू में कहा कि मैं पागल हो गया हूं, लेकिन उनके तानों ने मेरा हौसला और बढ़ा दिया’.

साल 1960 से 1982 के बीच दिन-रात दशरथ मांझी के दिलो-दिमाग में एक ही चीज ने कब्ज़ा कर रखा था. दशरथ मांझी हर रोज सुबह चार बजे उठते थे और 8 बजे तक पहाड़ तोड़ते थे. खेतों में मजदूरी करने के सिवा उनकी जिंदगी का सारा वक्त पहाड़ तोड़ने में ही बीतता था.

Ad.

पहाड़ से अपनी पत्नी की मौत का बदला लेना और 22 साल जारी रहे जुनून ने अपना नतीजा दिखाया और पहाड़ ने मांझी से हार मानकर 360 फुट लंबा, 25 फुट गहरा और 30 फुट चौड़ा रास्ता दे दिया और 80 किलोमीटर के जीरपुर और गहलौर के बीच की दूरी को महज 2 किलोमीटर में समेट दिया.

इससे पहले वजीरपुर और गहलौर के बीच की घाटी का रास्ता जिसे लोगों को तय करके वजीरपुर तक पहुंचना पड़ता था. दशरथ मांझी के हथौड़े ने पहाड़ को दो हिस्सों में बांट दिया. पच्चीस फुट ऊंचा पहाड़ दशरथ मांझी के हौसले के आगे हार गया. मांझी ने 30 फुट चौड़ी और 365 फुट लंबी सड़क पर अपनी विजय गाथा लिख दी.

दशरथ मांझी रोड

लेकिन दशरथ मांझी ने जिस पत्नी के लिए पहाड़ तोड़ने का करिश्मा किया था वो उसे देखने के लिए जीवित नहीं थी. प्यार की अमर निशानी इतिहास के पन्नोें में दर्ज हो गयी थी और आज भी लोग उस अमर प्रेम कथा का जिक्र करते हैं. आज भी गेहलौर की पहाड़ियों से गुजरते हुए दशरथ मांझी और फाल्गुनी के प्रेम की पराकाष्ठा की अनुभूति होती है.

साल 2007 में 17 अगस्त को गॉल ब्लॉडर के कैंसर से जूझते हुए दशरथ मांझी ने भी 73 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया लेकिन उनकी कहानी पत्थर पर लिखा इतिहास है जिसे बार-बार दोहराया जाता रहेगा.

बता दें कि दशरथ मांझी 1972 में पैदल ही रेलवे ट्रैक के किनारे-किनारे दो महीने में दिल्ली पहुंच गए थे.बिहार के नेता रामसुंदर दास से मुलाकात की थी और पीएम से भी मिलने गए थे, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने मिलने से रोक दिया था.

द माउन्टेन मैन फिल्म का दृश्य

वहीं 2005 में फिल्म डायरेक्टर केतन मेहता ने ‘मांझी : द माउंटेन मैन’ के नाम से दशरथ मांझी की लाइफ और लव स्टोरी पर फिल्म बनाई थी. दशरथ मांझी का रोल नवाजुद्दीन सिद्दिकी और उनकी पत्नी फगुनी की भूमिका राधिका आप्टे ने निभाई थी.इस फिल्म की 85 फीसदी शूटिंग गहलौर घाटी में हुई थी.

Ad.

Source- Dainik Jagran

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here